lahaul-spiti-words-in-chinal-bashe-to-address-pets-16405

हिमाचल प्रदेश के ज़िला लाहौल-स्पिती (Lahaul Spiti) में बोली जाने वाली बोली चिनलभाशे में पालतू जानवरों (पशु/पक्षी) से संबन्धित प्रयुक्त (सम्बोधन) शब्द:

 प्रजाति                                            बुलाने के लिए प्रयुक्त शब्द       भागने/दूर करने के लिए प्रयुक्त शब्द

बकरि (बकरी)                                      किचि-2                                                           किछ

उरनु (भेड़, मेमना)                               किरि-2                                                            छिद

पशरु (भेड़)                                            हो—अ                                                            छिद

बछरू (गाय, बछड़ा)                             बूछ-2                                                          बुछ

गा (गाय)                                                 भोवो                                                                बुछ, हट

कुतुर (कुत्ता)                                           चो: 2                                                             दुर:         

बिरा (बिल्ला)                                           पीश-2                                                           पिश

घोअ (घोड़ा)                                             शो: -2                                                           ख्यो

कर: (गधा)                                                शो: -2                                                          कोस्

कुक्कुड़ (मुर्गा)                                         कुर्ह-2                                                            शित

विशेष: 1. ये शब्द मेरी प्रकाशनाधीन पुस्तक लाहौल-स्पिती एक अबूझ ठार’, खंड-1

2. पशरू: पशरु में उनाड़ा और छगुड़ (भेड़ और बकरा, बकरी), उरनु (मेमना), छेल्ड़ु (बकरी का बच्चा) सब।

3. छगुड़: छगुड़ में बकरि (बकरी), ठब्टा (बकरा प्रजनन क्षमता वाला), बकर: (बकरा प्रजनन क्षमता रहित), छेल्ड़ु (दोनों लिंग)।

4. उनाड़ा: उनाड़ा में भेड् (मादा भेड़), हुड़ (नर भेड़ प्रजनन क्षमता वाला), डाङ्: (नर भेड़ प्रजनन क्षमता रहित), उरनु (दोनों लिंग)।

5. छेल्ड़ु: छेल्ड़ु में पट्ठी (मादा), रिहचडु (नर)।

इसे भी पढ़ें : Lahaul Spiti: ‘चिनाली’ नहीं ‘चिनलभाशे’ है, यह 

6. गोरु: गोरु में गौवंश और याक प्रजाति। जिनमें गा (गाय), बङ्ग्ड्र: (सांड), चोंर (याक), चुरु (गाय+याक की संकर), बधेल (गाय+याक का संकर), गरु (चूरु+याक का संकर), गरि (चूरु+याक की संकर)।

7. तोलमो (चुरू+बेल की संकर), तोलफ़ो (चुरू+बेल का संकर)।

8. कुतुर (कुत्ता), कुतरि (कुतिया), कुतोलु (पिल्ला)।

9. बिरा (बिल्ला), बिराइ (बिल्ली), बिराउ (बिल्ली का बच्चा) 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *