गुजरात में राज्‍यसभा चुनाव से पहले सभी अटकलों पर विराम लगाने के लिए कांग्रेस ने आज बेंगलुरू में अपने विधायकों की परेड मीडिया के सामने कराई। इस अवसर पर कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता और पार्टी प्रवक्‍ता शक्ति सिंह गोहिल ने भारतीय जनता पार्टी पर अपने विधायकों को तोड़ने के प्रयास करने के आरोप लगाये।

एक सवाल के जवाब में गोहिल ने कहा कि भाजपा द्वारा धन-बल के जरिये कांग्रेसी विधायकों को तोड़ने का प्रयास करने की जानकारी मिलने के बाद इन्‍हें बेंगलुरू लाया गया है।

गोहिल ने पत्रकारों को बताया, ‘‘हमारे विधायक यहां मौज-मस्ती करने नहीं आए हैं। हम लोकतंत्र को बचाने के लिए उन्हें यहां लेकर आए हैं, क्योंकि भाजपा धनबल और बाहुबल का इस्तेमाल कर उन्हें खरीदने की कोशिश कर रही थी।’’

गोहिल ने ये भी दावा किया कि भाजपा ने आठ अगस्त को राज्यसभा की तीन सीटों के लिए गुजरात में होने वाले चुनाव के दौरान क्रॉस-वोटिंग के लिए उसके 22 विधायकों को 15 करोड़ रूपए की पेशकश कर खरीदने की कोशिश की।

गोहिल ने गुजरात की विजय रूपाणी सरकार पर राज्‍य में बाढ़ से प्रभावित लोगों की अनदेखी करने का आरोप लगाया। उन्‍होंने कहा कि भाजपा विधायकों को बाढ की चिंता नहीं है। वे कांग्रेस को तोड़ने में लगे हुए हैं। भाजपा का कहना है कि गुजरात विधानसभा में कांग्रेस विधायक पार्टी नेतृत्‍व से नाराज हैं। पिछले सप्‍ताह से छह कांग्रेस विधायक इस्‍तीफा दे चुके हैं। इनमें से तीन भाजपा में शामिल हो गये हैं।

इस बीच, नई दिल्ली में भाजपा ने कांग्रेस के इस आरोप को खारिज कर दिया कि वह गुजरात में उसके विधायकों को तोड़ रही है। पार्टी ने कहा कि हाल में कांग्रेस के छह विधायकों के इस्तीफे के पीछे उसका कोई हाथ नहीं है और सवाल किया कि ‘‘क्या वह बिकाऊ है।’’ भाजपा ने यह भी कहा कि कांग्रेस का एकमात्र लक्ष्य देश में राहुल गांधी और गुजरात में अहमद पटेल को बचाना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *